Sale!

2,100.00

  • Shaaligraama is a form of Lord Vishnu. It is essential to keep it on the auspicious occasions of Poojas and Yajnas, etc.
  • This idol of Lord Vishnu is very rare and is found only in the river Gandaki in India.
  • It enhances the prosperity of a man and makes him inclined towards religious acts and performances if he establishes it in his house. He, who worships this idol daily, gets rid of sins committed in his previous birth.
  • Shaligram purifies a person and gives success in all walks of life.
  • The benefits that one get by reading all the Vedas and doing penace (tapasya) is obtained by a person who worships Shaligram.
  • The one who does Abhishek of Shaligram with water gets lots of benefits and happiness.
  • It is said that if a dying person is given the water of Shaligram then he is purified from all the sins committed by him and goes to Vishnu Lok and get Nirvan.

Description

चमत्कारिक शालिग्राम रखें घर में, लक्ष्मी रहेगी सदैव प्रसन्न और कट जाएगा जन्मों का पाप –

 

  • शालिग्राम नेपाल के मुक्तीनाथ क्षेत्र में पाए जाने वाले गणकी नदी में पाया जाने वाला एक पवित्र पत्थर है और यह भगवान विष्णु का प्रतिनिधित्व है। पद्मपुराण के अनुसार – गण्डकी अर्थात नारायणी नदी के एक प्रदेश में शालिग्राम स्थल नाम का एक महत्त्वपूर्ण स्थान है, वहाँ से निकलनेवाले पत्थर को शालिग्राम कहते हैं।
  • शालिग्राम शिला के स्पर्शमात्र से करोड़ों जन्मों के पाप का नाश हो जाता है। फिर यदि उसका पूजन किया जाय, तब तो उसके फल के विषय में कहना ही क्या है, वह भगवान के समीप पहुँचाने वाला है।
  • शालिग्राम पूजन करने से अगले-पिछले सभी जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं। लक्ष्मी नारायण शालिग्राम का पूजन जिस घर में होता है उस घर में लक्ष्मी का सदैव वास रहता है।
  • विष्णु पुरान के अनुसार, यह सबसे दुर्लभ शालिग्राम में से एक है, जो इस शालिग्राम की पूजा करता है वह बहुत अधिक धन और स्वास्थ्य प्राप्त करता है।
  • घर में लक्ष्मी-नारायण शालिग्राम पर चंदन लगाकर उसके ऊपर तुलसी का पत्ता रखना चाहिए।
  • इसकी पूजा करने से दुश्मन का नाश होता है, दुख और दरिद्रता नष्ट हो जाती है।
  • पूजा में तुलसी का पत्ता भगवान शालीग्राम के ऊपर चढ़ाने से धन, वैभव और प्रसिद्धी मिलती है।
  • शालिग्राम और तुलसी का विवाह करने से आपके कलह, पाप, दुःख और रोग दूर होते हैं।
  • घर में शालिग्राम का पूजन करने से वास्तु दोष दूर होते हैं।
  • पुराणों में शालिग्राम के घर में होने पर उस घर को तीर्थों से भी श्रेष्ठ बताया गया है। भगवान शिव ने भी स्कंदपुराण के कार्तिक माहात्मय में भगवान शालिग्राम की स्तुति की है।
  • पुराणों के अनुसार शालिग्राम शिला का जल अपने ऊपर छिड़क लेना चाहिए।
  • मृत्युकाल में शालिग्राम चरणामृत का जलपान करने वाला विष्णुलोक को प्राप्त होता है।
  • शालिग्राम एक जागृत महादेव हैं और इसमें विष्णु का अंश भी समाया हुआ है। यदि आप ध्यान देंगे तो शालिग्राम पल प्रतिपल बढ़ता जाता है। यह इतनी सूक्ष्म मात्रा में बढ़ता है कि कई सैकड़ों वर्षों में ही इसके बढ़े हुए आकार का अंदाजा लग सकता है। जिस तरह यह सर्वविदित है कि हमारा ब्रह्मांड, आकाशगंगा लगातार फैल रहे हैं, उसी तरह शालिग्राम भी बढ़ता है। इसलिए इसमें कोई संशय नहीं कि यह जागृत नहीं है।
  • शालिग्राम पूजा से आध्यात्मिक लाभ मिलते हैं। जो व्यक्ति अध्यात्म की ओर जाना चाहता है, साधना-सिद्धियां हासिल करना चाहता है वह अपने पास शालिग्राम जरूर रखे।
  • गृहस्थ लोग यदि भौतिक उन्न्ति की कामना से शालिग्राम पूजा करते हैं और सही नियमों का पालन करते हैं तो निश्चित ही वे अपने कार्य में सफल होते हैं।
  • शालिग्राम स्वयंभू होने के कारण इनकी प्राण प्रतिष्ठा की आवश्यकता नहीं होती और भक्त जन इन्हें घर अथवा मन्दिर में सीधे ही पूज सकते हैं।
  • शालिग्राम पूजा से अतुलनीय धन-संपदा प्राप्त होती है। समस्त सांसारिक सुखों की प्राप्ति होती है।
  • हिंदू धर्म में आमतौर पर मानवरूपी धार्मिक मूर्तियां प्रतिनिधित्व करती हैं हालांकि प्रतीक चिन्हों का भी समान रूप से प्रयोग होता है। शालीग्राम के रूप में भगवान के अमूर्त रूप का प्रतिनिधित्व किया जाता जिस पर मानव आसानी से ध्यान केंद्रित कर सकें और जैसा की भगवान कृष्ण ने गीता में कहा है – गीता अध्याय-12 श्लोक-5 / Gita Chapter-12 Verse-5

    क्लेशोऽधिकतरस्तेषामव्यक्तासक्तचेतसाम् ।
    अव्यक्ता हि गतिर्दु:खं देहवद्भिरवाप्यते ।।5।।

    उन सच्चिदानन्दघन निराकार ब्रह्मा में आसक्त चित्तवाले पुरुषों के साधन में परिश्रम विशेष है, क्योंकि देहाभिमानियों के द्वारा अव्यक्त विषयक गति दु:खपूर्वक प्राप्त की जाती है ।।5।  (जिन लोगों के मन परमात्मा के अप्रत्यक्ष, अवैयक्तिक गुणों से जुड़े होते हैं उन लोगों के लिए, उन्नति बहुत कठिन है। शरीर युक्त जीव को इस अनुशासन में प्रगति करना सदैव मुश्किल होता है)

 

Laxmi Narayan Shila is one of the most rare Shaligram. One who worships this Shaligram gets immense wealth and very good health. The environment in his house becomes like Vaikunth. Peace prevails in his house and at his workplace. Wherever he puts his hands he reaps gold and wealth. It gives immense protection to the worshipper and gives all worldly comforts. It is very good for starting a new business and growing the existing business.

According To Vishnu Puran, This is one of the most rarest shaligram. One who worships this Shaligram gets Immense wealth and very good health. It is very good for starting new business and growing the existing business. Lakshmi Narayan Saligram blesses for Good, understanding, comfortable Relationship within the family members. It gives Immense Protection to the Worshipper And Gives All Worldly Comforts. this Shila Is Very Exotic, Powerful, Extremely Attractive, Brilliant, Auspicious, Emits Very High Radiance And Has An Extra Ordinarily High Energy Levels. the Presence Of Laxmi And Narayan Markings Protects The Devotee From All 10 Directions And Gives Immense Peace And Prosperity And All Persons Became Happy In Their Lives Due To The Presence Of These Markings On A Shila.

The competitors of the worshipers can not stand against him anymore. It is a very complete Shila. Lakshmi Narayan  Shila is one of the very rare Shila and ensures miracles to happen in the devotees life. Shree Saligrams is considered the direct symbol of Lord Vishnu, They are found only in Mukti chhetra and Damodar Kunda (north-west of Nepal). According to the religious text of Devi Bhagwate (and other scriptures) to kill demon Jalandhar Lord Vishnu have to destroy Sati Brindha’s sati dharma.

When he did that Sati Brindha gave four seeming desecrations to Lord Vishnu to become stone, grass, tree, plant. To wash away this reaction Lord Vishnu took four avatars (incarnations). He became stone (Shree Saligram) grass (kush) tree (Pipal) and plant (Tulsi). Since this time the Saligrams are considered to be most auspicious to behold and to worship. This Shila is very exotic, powerful, extremely attractive, brilliant, auspicious, emits very high radiance and has extraordinarily high energy levels.

This Shila will bestow the devotee with great protection against enmity, occult and evil forces. The Shila will also bestow tremendous stability to the environment and worshipper will emerge out to victorious in all fields, personal life as well as professional life. The worshipper knows no fear and by Shree Saligram’s mercy the worshipper is blessed to attain all desirable things; worldly comforts, good wife, good sons, good health and wealth etc. It is all by the blessings of Lord Mahavishnu that His pastimes are being served.

It is an excellent service for devotees of Lord Narayana. Saligram , the only self incarnated god in Kali Yuga, found in northern parts of Nepal on the banks of Gandaki river. Our mission is to provide devotees best saligram as Saligram Strotram suggest.

THE VIRTUES OF SHALIGRAM:

Wherever Shaligram is kept Lord Vishnu lives there along with Goddess Laxmi. The umbrella shape Shaligram has power to give kingdom and the one having elliptical shape gives lots of wealth.
Shaligram purifies a person and gives success in all walks of life. The benefits that one get by reading all the Vedas and doing penace (tapasya) is obtained by a person who worships Shaligram. The one who does Abhishek of Shaligram with water gets lots of benefits and happiness.
It is said that if a dying person is given the water of Shaligram then he is purified from all the sins committed by him and goes to Vishnu Lok and get Nirvan.

POOJAN VIDHI:

Shaligram is worshipped like one worships Lord Vishnu. Normally tulsi is used essentially and also a counch shell (Shankh) is also kept near the Shaligram. Daily worship with purity of heart and body is required to get full benefits from Shaligram.

 

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “RARE NATURAL GANDAKI LAXMI NARAYAN SHALIGRAM (2 CHAKRA) अति दुर्लभ श्रीलक्ष्मीनारायण शालिग्राम उचित दक्षिणा पर दान हेतु उपलब्ध है”

Your email address will not be published.